Ticker

6/recent/ticker-posts

लोन क्या है लोन कैसे लेते है



अगर कभी आपको पैसे की जरूरत पर जाए उस समय अगर कहीं से पैसे का इंतजाम नहीं हो पाए तो आप लोन ले सकते है, बैंक और वित्तीय संस्थान द्वारा लोगो को अलग-अलग कामों के लिए लोन दिए जाते है पहले के मुकाबले अब लोन लेना का प्रॉसेस और भी आसान हो गया है, कई सारी सरकारी और प्राइवेट बैंक लोगो को ऐसे भी फाइनेशियल प्रोडक्ट ऑफर कर रहे है जिसके जरिए अब लोग बिना बैंक जाए घर बैठे बिना किसी गारंटर के लोन ले सकते है। अगर आपको नहीं पता है लोन क्या है और लोन कैसे लेते है तो इसके संबंधित सभी जानकारी इस आर्टिकल के माध्यम से मिल जायेंगी।

 

अपने देखा होगा की आपको अकसर लोन लेने के लिए कॉल आता होगा या फिर आपको लोन लेने का एडवर्टिसमेंट जरूर दिखाता होगा बैंक और गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियां (एनबीएफसी) द्वारा लोगो के ज़रूरत अनुसार शादी-ब्याह, घर की मरम्मत, बच्चो की पढ़ाई, व्यक्तिगत जरूरत आदि के लिए लोन दिया जाता है। अगर आपने कभी Loan नहीं लिया है तो आपकों इसके बारे मे ज्यादा पता नही होगा इसलिए आज हमको डिटेल मे loan kya hai और Loan Kaise le Sakte hai इसके बारे मे बताएंगे।


लोन क्या है – What is Loan in Hindi


वैसे तो लोन के विषय में आप थोडा बहुत तो जानते ही होगें जब हमे किसी काम के लिए अचानक पैसे की ज़रूरत पर जाति है या फिर कुछ खरीदने के लिए हमे अगर पैसे कम पर रहे होते है तब हमारे काम Loan आता है जिसे हम आमतोर पर Banks या financial institutions से लेते है। बैंक द्वारा आपके income और financial history के आधार पर unsecured कैटेगरी मे आने वाले loan को दे दिया जाता है लगभग सभी प्रकार के loans 48 hours के अंदर approve हो जाते हैं अगर आपके डॉसीमेंट्स सही हो तो लेकिन ऐसा लोन जिसमे लोन के बदले सिक्युरिटी होती हैं उस लोन को एप्रूव होने मे हफ्ते भर का समय लग सकता है।

 

लोन के अंग क्या हैं? What are the components of a loan?

 

Loan के मुख्य रूप से तीन components होते हैं पहला

Principal या borrowed amount दूसरा Rate of interest या ब्याज दर तीसरा Loan duration

कितने समय के लिए आपने loan लिया है।

 

       Principal या borrowed amount: जब भी आप बैंक से जीतना अमाउंट लोन के रुप मे लेते है उस पैसे को Principal Amount या borrowed amount कहा जाता है। ये financial institution के द्वारा दिया जाने वाला मूल धन होता है जिसपर आपको बैंक को ब्याज देना होता है।

 

       Rate of Interest  या ब्याज दर: बैंक से आपको जितने रूपये का Principal Amount या Loan amount मिलता है उस पर बैंक सालाना ब्याज दर चार्ज करती है। आप जितने साल के लिए लोन लोगे बैंक उस पर सालाना ब्याज दर चार्ज करेगी आपको loan amount के साथ rate of interest amount भी चुकाना होता है।

 

       Loan duration: बैंक से आप जितने समय के लिए Principal Amount या Loan amount लेते हैं उसे Loan duration कहा जाता है। आपको इसी Loan duration के अंदर rate of interest के साथ Loan amount बैंक को वापस करना होता है।


Types Of Loan Category In Hindi | लोन की श्रेणी

 

बैंक और गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियां द्वारा लोन को दो कैटेगरी मे रखा गया है पहला होता है सिक्योर्ड लोन (secured loan) और दूसरा होता है अनसिक्योर्ड लोन (unsecured loan)।

 

Secured Loan kya hota hai

 

इस कैटेगिरी मे जो लोन आते है उसे लेने के लिए लोगो को किसी चीज को सिक्योरिटी के तौर पर रखा जाता है जैसे की घर, जमीन,सिक्योरिटी पेपर,गोल्ड,म्यूचुअल फंड, बीमा (insurance) पेपर चल संपत्ति आदि और इन सिक्योरिटी के बदले बैंक आपको लोन देती है जिसपर आपको अनसिक्योर्ड लोन की तुलना मे काम ब्याज दर देना होता है क्युकी यहां बैंक के पैसे के बदले गारंटी होती है अगर सामने वाले पैसे नही दे पाए तो बैंक रखे गए सिक्योरिटी को नीलाम करके प्रोपर्टी बेच कर अपने पैसे रिकवर कर सकती है।


unsecured loan kya hota hai


इस कैटेगरी मे जितने भी लोन आते है इस लेने मे लोगो को किसी भी प्रकार का गारंटी देने की जरूरत नही होती है लेकिन इसके बदले बैंक द्वारा Secured Loan की तुलना मे ज्यादा ब्याज दर चार्ज किया जाता है क्युकी इस लोन के बदले कोई गारंटी नहीं होती इसलिए रिस्क जायदा होता है।  Unsecured loan की कैटेगिरी मे बैंक द्वारा पर्सनल लोन, एजुकेशन लोन,क्रेडिट कार्ड,बैंक ओवरड्राफ्ट और बिज़नेस लोन शामिल है इस तरह के लोन को बैंक द्वारा अकसर सेलरी और सिविल स्कोर के आधार पर दे दिया जाता है।

Types Of Loan by Time Period |  टाइम पीरियड के हिसाब से लोन के प्रकार

लोन को टाइम पीरियड के हिसाब से तीन प्रकार मे बाटा गया है पहला शॉर्ट टर्म लोन (Short Term Loan) दूसरा मीडियम टर्म लोन और तीसरा लौंग टर्म लोन।

 

        शॉर्ट टर्म लोन (Short Term Loan) – जो लोन कम समय अवधि के लिए दिए जाते है जिसमे लोन लेने वाले व्यक्ति को कम समय मे पैसा लोटाना होता है, प्रत्येक बैंक द्वारा Short term loan अलग-अलग टाइम फ्रेम के हिसाब से देती है। आमतोर शार्ट टर्म लोन 6 महीने से लेकर 1 साल या फिर 2 साल तक के लिए भी हो सकते है।

 

       मीडियम टर्म लोन (Medium-Term Loan) – ऐसे लोन जो मध्यम समय के लिए जाते है जिसे चुकाने के लिए बैंक द्वारा आमतोर पर लोगो को 1 साल से 3 साल या ज्यादा से ज्यादा 5 साल तक के लिए दीया जाता है।

 

       लौंग टर्म लोन (Long Term Loan) – ऐसे लोन जिसे चुकाने के लिए बैंक द्वारा लम्बा समय दिया जाता है जिसकी समय अवधि 5 साल से अधिक होती है और इसे 30 साल तक के लिए दिया जा सकता है और इस प्रकार का लोन लेने के लिए बैंक में अप्लाई करना होता है क्योंकि इसमें लोन की धनराशि (Amount) ज्यादा होती है।


Types of Bank loan in India | भारत मे कितने प्रकार के लोन दिए जाते है

 

बैंक और गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियां (एनबीएफसी) द्वारा भारत मे लोगो को अलग अलग जरूरत के अनुसार विभिन्न प्रकार के लोन दिए जाते है।

 

       Personal Loan ( पर्सनल लोन)

       vehicle Car Loan (व्हीकल और कार लोन)

       Home loan (होम लोन)

       Education Loan ( एजुकेशन लोन)

       Property Loan ( प्रॉपर्टी लोन)

       Loan Against Securities

       Corporate Loan (कॉरपोरेट लोन)

       Gold Loan ( गोल्ड लोन)

       MSMEs के लिए स्माल बिज़नेस लोन

       महिला उद्यमी के लिए लोन (Women Entrepreneur Loan)

 

इसके अलावा भी बहुत तरह के लोन होते हैं लेकिन मुख्यताह यही प्रकार हैं।


लोन लेने के लिए अप्लाई करने से पहले मुख्य बातें | Key things to consider before applying for a loan


अगर आपक financial institutions के साथ अच्छे संबंध है और अपने कभी कोई लोन डिफॉल्ट नही किया है और आपकी एक फिक्स्ड इनकम है तो आपके लिए Loan लेना तो आसान है लेकिन लोन लेने से पहले आपको कुछ बातों का जरुर ध्यान रखना चाहिए।

 

       Rate of Interest: जब भी आप लोन लो तो Rate of Interest जरूर check करो अलग अलग financial institutions के लोन रेट से कंपेयर करो और जहां सबसे कम इंट्रेस्ट पर मिल रहा है वहा से लोन की कोशिश करो।

 

       Processing fee और दुसरे charges: बैंक और गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियां (एनबीएफसी) Loan के लिए apply करते हैं तो आपसे  Processing fee भी चार्ज करती है और अगर आप लोन लेने के बाद कोई payment deadlines miss कर देते है तो बैंक को आपको penalty fee देना होता है. इसलिए लोन लेने से पहले ये सब जरूर चेक करे।

 

       Credit score: लोन लेने के लिए अप्लाई करने से पहले आप अपना credit history जरुर check करो अगर आपका credit score 750 या उससे ऊपर होगा तो बैंक आपको कोई भी लोन बहुत ही आसानी से दे सकती है।


लोन कैसे ले | Loan Kaise le Sakte hai

 

अगर आप लोन लेना चाहते है तो सबसे पहले आपको ये डिसाइड करना होगा की आपको किस काम के लिए लोन चहिए अगर आप व्यतिगत खर्चे के लिए लोन लेना चाहते है तो आप पर्सनल लोन ले सकते है। बैंक में Loan apply करना बहुत ही आसान हो गया है ऐसे लोन जो अनसिक्योर्ड कैटेगरी मे आते है उसे लेने के लिए आप घर बैठ अप्लाई कर सकते है बैंक ये लोन कस्टमर के इनकम और credit history के आधार पर देते है।


वही आपको अगर सिक्योर्ड लोन है जैसे Home loan (होम लोन),Gold Loan ( गोल्ड लोन),Loan Against Securities इन सब तरह के लोन को लेने के लिए आप लगभग सभी बैंक या गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियां (एनबीएफसी) मे ऑनलाइन अप्लाई कर तो सकते है लेकिन आगे के प्रोसेसिंग को पूरा करने के लिए या तो आपको ब्रांच विजिट करना होगा या फिर बैंक के एम्प्लॉय आकार इनसिपेक्शन करके लोन अप्रूव करेंगे।


Post a Comment

0 Comments